layer of atmosphere info hindi वायुमंडल की परतें

वायुमंडल की परतें (Layers of the Atmosphere) हमारे पृथ्वी को आवरित करके उसे विभिन्न स्थितियों में बाँटती हैं। ये परतें विभिन्न गुणस्तरों और तापमान में अलग-अलग होती हैं। इन परतों का अध्ययन करके हम आपको इनकी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान कर सकते हैं:

1. त्रोपोस्फियर:

  • यह सबसे निकट वायुमंडल है और सभी जीवों और यानीचे के प्राणियों के लिए अभियांत्रिकी पर्यावरण प्रदान करता है। यहां हवा का अधिकांश ताप उच्चायी गर्मी की उत्सर्जन के कारण होता है।

2. स्ट्रेटॉस्फियर:

  • इसमें वायुमंडल की ऊचाई 50 किलोमीटर से 85 किलोमीटर तक होती है। यहां से ऊपर ऊपरी स्तरों में विकसित गैसों के विलीन होते हैं, जिन्हें “ओजोन स्तर” भी कहा जाता है।

3. मेसोस्फियर:

  • इसकी ऊचाई 85 किलोमीटर से 600 किलोमीटर तक होती है और यहां वायुमंडल में तापमान फिर से बढ़ने लगता है। इसमें गैसों की कमी होती है और तापमान विस्तारीय रूप से बढ़ता है।

4. थर्मॉस्फियर:

  • इसकी ऊचाई 600 किलोमीटर से 10,000 किलोमीटर तक है और यहां गैसों की बहुत ही कमी होती है। इस परत में सूर्य के अंतर्ग्रहण के कारण तापमान बढ़ता है और इसमें विविध रंगीन दृश्य पैदा होते हैं।

5. एक्सोस्फियर:

  • यह सबसे ऊपरी परत है और इसकी ऊचाई 10,000 किलोमीटर से अजेंडा तक है। इसमें गैसों की कमी होती है और यहां अणुओं और आइयनों का गतिविधि होता है।

इन परतों की समृद्धि और गैसों की परिस्थिति के कारण यहां विभिन्न वातावरणीय घटक होते हैं जो हमारे जीवन को समर्थन करते हैं। त्रोपोस्फियर में वायुमंडलीय घटक और ओजोन स्तर का महत्वपूर्ण भूमिका है जो हमें बुरी रफ्तारों, अधिकतम सूर्य की किरणों और उच्च ऊर्जा चुंबकीय रेडिएशन से सुरक्षित रखते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *